सीएम नीतीश कुमार ने मुजफ्फरपुर, सीतामढ़ी, शिवहर एवं चम्पारण जिले के बाढ़ प्रभावित इलाकों का किया हवाई सर्वेक्षण, समीक्षा बैठक कर दिए कई निर्देश

1013
0
SHARE

सीएम के निर्देश की मुख्य बातें :

• जिलाधिकारियों को हवाई सर्वेक्षण के लिये हेलीकॉप्टर उपलब्ध करायें। हवाई सर्वेक्षण कर जिलाधिकारी अपने-अपने जिलों की वास्तविक स्थिति की जानकारी लें और उसके आधार पर आकलन करें, हवाई सर्वेक्षण के दौरान कृषि विभाग एवं आपदा प्रबंधन विभाग के अधिकारी भी मौजूद रहें ।
• लोगों के रिलिफ के लिए हम सबको काम करना है, उन्हें हर प्रकार से मदद करनी है।
• सरकार के खजाने पर पहला अधिकार आपदा पीड़ितों का है।
• समय पर लोगों को सहायता उपलब्ध हो यह सुनिश्चित करें इसके लिए संवेदनशीलता के साथ काम भी करें।
• किसानों को कृषि कार्य में काफी नुकसान हुआ है उसका अविलंब में आकलन करें ताकि उन्हें सहायता पहुॅचायी जा सके ।
• राहत शिविरों में कोरोना जांच और टीकाकरण कार्य अवश्य कराएं। जो कोरोना पॉजिटिव पाए जाते हैं उनके रहने एवं देखभाल की अलग से व्यवस्था कराएं।
• अभी कोरोना का दौर भी है और बाढ़ की स्थिति भी है। इसको ध्यान में रखते हुए बचाव एवं राहत कार्य योजनाबद्ध ढंग से करें और आगे के लिए भी पूरी तैयारी रखें।

पटना : मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज पश्चमी चम्पारण, पूर्वी चम्पारण, मुजफ्फरपुर, सीतामढ़ी एवं शिवहर जिले के बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया। मुख्यमंत्री ने बाढ़ग्रस्त पश्चमी चम्पारण जिले के रामनगर, नरकटियागंज, गौनाहा, चनपटिया, मझौलिया तथा पूर्वी चम्पारण जिले के सुगौली, रामगढ़वा, छौड़ादानो, बंजरिया, चिरैया, ढाका, पताही, मधुबन तथा मुजफ्फरपुर जिले के गायघाट, कटरा, औराई तथा सीतामढ़ी जिले के रून्नीसैदपुर, बेलसंड, बैरगनिया तथा शिवहरजिले के तीन प्रखण्डों का हवाई सर्वेक्षण किया। हवाई सर्वेक्षण के दौरान जल संसाधन मंत्री श्री संजय कुमार झा, जल संसाधन विभाग के सचिव श्री संजीव हंस एवं मुख्यमंत्री के सचिव अनुपम कुमार भी मौजूद थे।
हवाई सर्वेक्षण से लौटने के पश्चात पटना एयरपोर्ट पर पत्रकारों से मुख्यमंत्री ने बात की। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस बार शुरु से ही अधिक वर्षापात के कारण कई जगह बाढ़ की स्थिति पैदा हो गयी है। आंखों का इलाज कराने कुछ दिनों पूर्व हम दिल्ली गए थे। आज बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों की स्थिति का जायजा लेने के लिये हमने पांच जिलों का हवाई सर्वेक्षण किया है। कल तीन बाढ़ग्रस्त जिलों का और जायजा लेंगे। हमने सर्वेक्षण के दौरान नदियों की वर्तमान स्थिति का भी जायजा लिया है। हमारी प्राथमिकता में यह काम सबसे ऊपर है।

मुख्यमंत्री ने आपदा प्रबंधन विभाग एवं जल संसाधन विभाग के साथ समीक्षा बैठक की। समीक्षा के दौरान वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से पश्चिमी चंपारण, पूर्वी चंपारण, मुजफ्फरपुर, शिवहर एवं सीतामढ़ी जिले के जिलाधिकारी भी जुड़े हुए थे। बैठक में जल संसाधन विभाग के सचिव संजीव हंस ने हवाई सर्वेक्षण के दौरान जिलावार प्रखंडों, नदियों की स्थिति की जानकारी दी। पश्चिमी चंपारण, पूर्वी चंपारण, मुजफ्फरपुर, शिवहर एवं सीतामढ़ी जिले के जिलाधिकारियों ने जिले में बाढ़ की अद्यतन स्थिति एवं इससे बचाव को लेकर जिले में किए जा रहे कार्यों के बारे में जानकारी दी।समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि जून में पहले कभी इतनी वर्षापात नहीं हुई थी। इस बार अधिक वर्षापात के कारण कई जिलों में बाढ़ की स्थिति बनी। आज हवाई सर्वेक्षण के दौरान हुआ है। वस्तु स्थिति से अवगत हुये। कई जगहों पर पानी का फैलाव है। खेतों में भी पानी फैला हुआ है।

मुख्यमंत्री ने निर्देश देते हुये कहा कि जिलाधिकारियों को हवाई सर्वेक्षण के लिये हेलीकॉप्टर उपलब्ध करायें। जिलाधिकारी अपने-अपने जिलों की वास्तविक स्थिति की जानकारी लें और उसके आधार पर आकलन करें। हवाई सर्वेक्षण के दौरान कृषि विभाग एवं आपदा प्रबंधन विभाग के भी अधिकारी मौजूद रहें। लोगों के रिलिफ के लिए हम सबको काम करना है, उन्हें हर प्रकार से मदद करनी है। हमने शुरु से ही कहा है कि सरकार के खजाने पर पहला अधिकार आपदा पीड़ितों का है। यह जरुरी है कि समय पर लोगों को सहायता उपलब्ध हो, इसके लिए संवेदनशीलता के साथ काम करें। एक-एक चीज का सही से आकलन होगा तो रिलिफ वर्क में और बेहतर ढंग से हो सकेगा। किसानों को कृषि कार्य में काफी नुकसान हुआ है। इसका ठीक से आकलन करें ताकि उन्हें सहायता पहुॅचायी जा सके। जो राहत कैंप बनाए गए हैं वहां पर कोरोना जांच और टीकाकरण कार्य अवश्य कराएं। जो कोरोना पॉजिटिव पाए जाते हैं उनके रहने एवं देखभाल की अलग से व्यवस्था कराएं। अभी कोरोना का दौर भी है और बाढ़ की स्थिति भी है। इसको ध्यान में रखते हुए बचाव एवं राहत कार्य योजनाबद्ध ढंग से करें और आगे के लिए भी पूरी तैयारी रखें।

अजय झा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here