सीतामढ़ी में किसान संगठनों ने तीनों कृषि कानून रद्द नही होने पर आन्दोलन तेज करने की दी चेतावनी

1095
0
SHARE

सीतामढ़ी : दिल्ली की सीमाओं पर एक महीने से ज्यादा समय से किसान कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं। सभी विपक्षी पार्टियों के साथ कई किसान संगठनों ने इसे अपना समर्थन दिया है। इसी बीच शनिवार को सीतामढ़ी के गाँधी मैदान में कृषि कानूनों के खिलाफ अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति का महाधरना शुरू हुआ। इनकी मुख्य मांगे हैं कि तीनों किसान विरोधी कानून रद्द हो, एम एसपी को कानूनी दर्जा मिले तथा रीगा चीनी मिल शीघ्र चालू किया जाय। किसानों के उपवास और महाधरना के इस कार्यक्रम की अध्यक्षता किसान सभा के सचिव जयप्रकाश राय ने की। बता दें कि यह आन्दोलन प्रतिदिन 10:30 बजे से आयोजित होगा। संयुक्त किसान संघर्ष मोर्चा, अभाकिसान सभा, जय किसान आन्दोलन, किसान सभा के साथियों के इस आन्दोलन को महागठबंधन के नेताओं ने भी सक्रिय समर्थन दिया।

इस मौके पर पटना से, गया किसान आन्दोलन के वरिष्ठ साथी अशोक प्रियदर्शी, जिरादेई केपूर्व विधायक रमेश सिंह कुशवाहा, मधुबनी के किसान नेता राजीव कुमार रमण,मोतीहारी से रामपुकार सिन्हा विशेष रुप से शामिल हुए। अपने संबोधन मे वक्ताओं ने कहा कारपोरेट की पिछलग्गू केन्द्र सरकार हठधर्मिता छोड़ तीनो कृषि कानून रद्द करने के साथ एम एसपी को कानूनी जामा पहनाये अन्यथा बिहार के गांव-गांव से आन्दोलन तेज होगा और बिहार के साथी दिल्ली भी कूच करेंगे।


इस मौके पर बंद रीगा चीनी मिल को नये सीएमडी देकर शीघ्र चालू कराकर 40 हजार किसानो तथा 650 कामगारों की जिन्दगी बंचाने हेतू सीएम से हस्तक्षेप की मांग की गई। उपवास पर बैठे डा आनन्द किशोर, विश्वनाथ बुन्देला, ओमप्रकाश, मुकेश कुमार मिश्र, मनोज कुमार, रामबाबू सिंह, ई.कृष्ण कुमार यादव को पू्र्व विधायक रमेश कुमार तथा प्रियदर्शी जी ने शरबत पिलाकर उपवास समाप्त कराया। मौके पर महागठबंधन के नेता शफीक खान, राजकिशोर सिह,सीताराम झा, प्रमोद नील, शम्स शहनवाज, विजय राठौर, एआईकेएससीसी के नेता बैधनाथ हाथी, केदार शर्मा, जलंधर यदुबंशी, प्रो दिगम्बर ठाकुर, रामपदार्थ मिश्र, ताराकांतझा, सुरेश बैठा,चन्द्रदेव मंडल लालबाबू मिश्रा, शशिधर शर्मा, संजीव कुमार सिंह, दिनेशचन्द्र द्विवेदी, शिवहर के किसान नेता संजय संघर्ष सिंह, मो मुर्तजा, विजय कुमार, अशोक कुमार, आफताव अंजुम, बिहार यूथ मंच के राजेश सिंह, युवा नेता त्रिपुरारी कुमार सुमन, उमाशंकर सिंह, भरत सिंह, भोला बिहारी, संजय कुमार, मो गयासुद्दीन, कौशल किशोर यादब, उपेन्द्र चौधरी, अभिन्दन कुशवाहा, पृथ्वीराज कुमार, केश कुमार सिंह, हंसलाल यादव, उमेश पासवान, राम अचल सिंह सहित अन्य वक्ताओं ने कहा कि किसानों के जीवन पर संकट के संघर्ष को जन-जन तक पहुचायेंगे।

अजय झा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here