पटना में किसान आंदोलन के समर्थन में लेफ्ट संगठनों के प्रदर्शनकारियों को पुलिस ने दौड़ा – दौड़ा कर पीटा

1050
0
SHARE

पटना : दिल्ली की सीमाओं पर एक महीने से ज्यादा समय से किसान कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं। सभी विपक्षी पार्टियों ने इसे अपना समर्थन दिया है। इसी बीच मंगलवार को पटना में कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया। पुलिस ने पटना में अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति और लेफ्ट पार्टियों की ओर से राजभवन तक निकाले जा रहे मार्च को रोक दिया। पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार, अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के बैनर तले कई संगठनों के नेता और कार्यकर्ता इस कार्यक्रम में शामिल हुए। इस प्रदर्शन में बड़ी संख्या में लोग झंडा, बैनर, पोस्टर हाथ में लिए हुए थे और केंद्र सरकार के विरोध में नारे लगा रहे थे। इसके बाद पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प हो गई। फिर पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर लाठीचार्ज किया। कृषि कानूनों के विरोध में राज्य के विभिन्न कोने से आए किसानों ने पटना की सड़कों पर मार्च किया।इस किसान आंदोलन के समर्थन में पटना में किसान महासभा और वामदलों से जुड़े 10 हजार कार्यकर्ता मार्च निकाल रहे थे। किसानों का मार्च गांधी मैदान से निकलकर राजभवन की ओर से बढ़ने लगा। मार्च जब डाक बंगला चौराहे पर पहुंचा तो पुलिस ने उन्हें राजभवन की ओर जाने से रोक दिया। इस दौरान पुलिस और किसानों के बीच झड़प हो गई। जिसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज किया।

पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को दौड़ा – दौड़ा कर पीटा
डाक बंगला चौराहे पर जब किसानों को रोका गया तो उनके और पुलिस के बीच धक्का-मुक्की शुरू हो गई। अनियंत्रित भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया। इसके बाद भगदड़ मच गई। पुलिस ने भाग रहे किसानों को दौड़ाकर पीटा। कई किसानों ने गलियों में छिपकर अपनी जान बचाई। घायल किसानों को पीएमसीएच भेजा गया है।

अजय झा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here