महाराणा प्रताप की प्रतिमा का निर्माण व आंनद मोहन की रिहाई की अनदेखी नीतीश को महंगा पड़ेगा – राठौर

1382
0
SHARE

पटना : राजधानी में करबिगहिया से आर ब्लॉक जाने वाली पुल पर महाराणा प्रताप की प्रतिमा स्थापित करने व सजा पूरी करने के बाद भी जेल में बन्द पूर्व सांसद आंनद मोहन की रिहाई की मांग को लेकर मुख्यमंत्री आवास के समक्ष आत्मदाह करने की घोषणा के आलोक में धनवंत सिंह राठौर को उनके कंकड़बाग आवास से हुई गिरफ्तारी का क्षत्रिय सेवा महासंघ समेत कई संगठनों के नेताओ ने तीब्र भर्तसना की है। इसके खिलाफ आगामी 25 सितम्बर को गांधी मैदान स्थित गांधीजी की मूर्ति के पास से काली पट्टी बांध कर मुख्यमंत्री आवास मार्च करने की घोषणा की है।
पटना में आयोजित संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए क्षत्रिय सेवा महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष धनवंत सिंह राठौर ने कहा कि उन्हें सुबह आठ बजे से पूर्व ही पटना पुलिस उनके कंकड़बाग आवास से यह कहकर गिरफ्तार कर परसा थाना ले गई की सिटी एस पी कंकड़बाग थाना में कार्यक्रम के बारे में बात करेंगे। बाद में मुझे सात बजे संध्या में रिहा किया गया।जबकि सचिवालय थानाध्यक्ष का अख़बारों में यह बयान देना की मुख्यमंत्री आवास के पास से दोपहर में गिरफ्तारी हुई है झूठ का पुलिंदा है। सचिवालय थानाध्यक्ष का दिया गया बयान मुख्यमंत्री के इशारे पर दिया गया है ताकि जनता यह समझे कि उनकी गिरफ्तारी कंकड़बाग आवास से नहीं हुई है।
श्री राठौर एवं क्षत्रिय संगठनों के नेताओ ने कहा कि मुख्यमंत्री आज क्षत्रिय समाज के साथ वादाखिलाफी कर रहे है, अगर उन्होंने मिलर हाई स्कूल में 21 जनवरी को किए वायदे को पूरा नहीं किया तो आने बालेे चुनाव में समाज इसका हिसाब लेगी। 25 सितम्बर को काली पट्टी के साथ होने बाले मुख्यमंत्री आवास मार्च मील का पत्थर साबित होगा।

संवाददाता सम्मेलन में उपस्थित विभिन्न संगठनों के नेताओ में श्री राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के प्रदेश अध्यक्ष सुनील सिंह,करणी सेना के प्रदेश अध्यक्ष धीरेन्द्र सिंह, अखिल भारतीय क्षत्रिय सेवा दल के अध्यक्ष नितेश सिंह कच्छवाहा,जनसेवा क्षत्रिय विकास समिति के अध्यक्ष दिवाकर सिंह,चन्द्रशेखर विचार मंच के अध्यक्ष प्रेम शंकर चौहान , क्षत्रिय सेवा महासंघ के राष्ट्रीय महासचिव रत्नेश कुमार सिंह एवं मनोज कुमार सिंह , अजय कुमार सिंह आदि थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here