बिहार विधानसभा और विधान परिषद में उठी सुशांत सिंह राजपूत के मौत की CBI जांच की मांग

4644
0
SHARE

पटना- फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत का मामला आज बिहार विधान मंडल के मानसून सत्र में छाया रहा। सत्ता पक्ष के साथ -साथ विपक्ष ने भी एक सुर से इस मामले में सीबीआई जांच की मांग की। विधानसभा में इस मुद्दे को सुशांत के भाई बीजेपी विधायक नीरज कुमार बब्लू ने उठाया तो विधान परिषद में सुशांत की भाभी एमएलसी नूतन सिंह ने इस मामले की पुरजोर वकालत की। सुशांत सिंह के भाई नीरज बबलू ने विधानसभा में यह मांग की कि सरकार इस मामले की सीबीआई जांच कराएं। नीरज बबलू की मांग के समर्थन में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने भी सुशांत सिंह का मामला सदन में उठाया। तेजस्वी ने कहा कि सरकार को इस मामले में गंभीर होना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि बिहार हीं नहीं,पूरा हिन्दुस्तान जानना चाहता है कि सुशांत सिंह राजपूत के साथ क्या हुआ। तेजस्वी ने कहा कि जिस तरह मुंबई पुलिस और महाराष्ट्र सरकार मामले की लीपापोती कर रही है ऐसे में सरकार को चाहिए कि वह इस पर गंभीरता दिखाए। वहीं तेजस्वी यादव ने कहा कि राजगीर में बनने वाली फिल्म सिटी का नाम सुशांत सिंह राजपूत के नाम पर रखा जाए। आज ही विधान मंडल के दूसरे सदन यानी विधान परिषद में भी सुशांत सिंह राजपूत का मामले उठा। इस मामले को सदन में उनकी भाभी नूतन सिंह ने उठाया। नूतन सिंह नीरज बबलू की पत्नी है और वो लोजपा की एमएलसी हैं। विधान पार्षद सदस्य नूतन सिंह ने इस मामले की सीबीआई जांच कराने की मांग की है। दोनों सदनों में जब सुशांत सिंह राजपूत के परिवार से जुड़े लोगों ने इस मामले को उठाया तो अन्य सदस्यों का भी समर्थन मिला। सदन में कांग्रेस विधायक अमित कुमार टुन्ना ने इस मुद्दे पर एक बिल सर्वसम्मति से पास करने की भी बात कही।

बता दें कि सुशांत सिंह राजपूत केस में महाराष्ट्र और बिहार की पुलिस जांच कर रही है। बिहार सरकार की तरफ से कहा जा चुका है कि उसे सीबीआई जांच करवाने से कोई गुरेज़ नहीं है, लेकिन महाराष्ट्र सरकार सीबीआई जांच की मांग को खारिज कर रही है। दूसरी तरफ, सीबीआई जांच की मांग संबंधी एक याचिका पर सुप्रीम कोर्ट कह चुका है कि इसकी ज़रूरत नहीं है। दरअसल किसी केस में सीबीआई जांच के लिए संबंधित राज्य सरकार को एक आवेदन जारी करना होता है, जिस पर केंद्र सरकार मंज़ूरी देती है। मंज़ूरी से पहले आम तौर पर केंद्र सरकार उस मामले में सीबीआई का रुख जानती है। दूसरे, सुप्रीम कोर्ट या हाई कोर्ट किसी केस में सीबीआई जांच के लिए आदेश दे सकते हैं।

अजय झा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here