LAC पर हुई हिंसक झड़प के बाद PM मोदी ने 19 जून को बुलाई सर्वदलीय वर्चुअल बैठक

4280
0
SHARE

चीन से भारत को 45 साल बाद एक बार फिर धोखा मिला है। लद्दाख की गलवान घाटी में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर हुई हिंसक झड़प में 20 सैनिकों के शहीद होने के बाद मोदी सरकार एक्शन मोड में आ गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 19 जून को शाम 5 बजे सर्वदलीय बैठक बुलाई है। इस बैठक में अलग-अलग पार्टियों के अध्यक्ष शामिल होंगे, जिसमें LAC के मौजूदा हालात पर चर्चा होगी। प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) ने ट्वीट करके इसकी जानकारी दी। PMO ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चीन के साथ जारी विवाद पर सर्वदलीय बैठक बुलाई है। 19 जून को शाम पांच बजे सभी दलों के प्रमुख वर्चुअल बैठक के जरिए इसमें हिस्सा लेंगे। विपक्ष की ओर से लगातार इस मसले पर सर्वदलीय बैठक बुलाने की मांग की जा रही थी।

गौरतलब है की सोमवार की रात को बातचीत करने गई भारत की सेना पर चीनी सैनिकों की हिंसक झड़प हुई। पत्थरों, लाठियों और धारदार चीजों से हमला किया गया। इस हमले में भारत के कमांडिंग ऑफिसर समेत 20 सैनिक शहीद हो गए। जबकि, 4 जवानों की हालत नाजुक बनी हुई है। पीएम मोदी ने चीन सीमा पर शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि दी। पीएम मोदी ने कहा कि मैं देश को भरोसा देता हूं कि जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। उन्होंने ये भी कहा कि सैनिक मारते-मारते मरे हैं। सीमा पर हुए खूनी संघर्ष में चीन के 43 सैनिक हताहत हुए हैं। इनमें मृतक और गंभीर रूप से घायल चीनी सैनिक शामिल हैं। वहीं चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने कहा कि हम कूटनीतिक और मिलिट्री चैनल के जरिए संवाद कर रहे हैं। इस मामले में सही और गलत बिल्कुल साफ है, ये घटना वास्तविक नियंत्रण रेखा के चीन की तरफ हुई और इसके लिए चीन को दोष नहीं देना चाहिए। चीन के तरफ से हम और अधिक झड़प नहीं देखना चाहते हैं।

इस मामले पर रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने भी आज सेना के तीनों प्रमुखों और सीडीएस जनरल बिपिन रावत के साथ मीटिंग की। रक्षामंत्री ने कहा कि देश जवानों की शहादत को कभी नहीं भूलेगा। राष्ट्र शहीदों के परिवार के साथ खड़ा है। बता दें कि इससे पहले जब उरी में आतंकवादी हमला हुआ था और पुलवामा में आतंकी हमला हुआ था. तब भी मोदी सरकार की ओर से सर्वदलीय बैठक बुलाई गई थी। पुलवामा आतंकी हमले के बाद भारत ने बालाकोट में एयर स्ट्राइक की थी। वायुसेना ने बालाकोट स्थित पाकिस्तानी आतंकवादी संगठन जैश ए मोहम्मद के अड्डों को नेस्तनाबूत कर दिया था। वहीं जब उरी में 2016 में भारतीय सेना के कैंप पर हमला हुआ था, तब भी मोदी सरकार की ओर से सर्वदलीय बैठक बुलाई गई थी। बता दें कि उरी हमले के बाद भारतीय सेना ने बॉर्डर पार जाकर सर्जिकल स्ट्राइक की थी और आतंकियों की पोस्ट को ध्वस्त कर दिया था।

अजय झा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here