भारत और ऑस्ट्रेलिया के पीएम ने सात अहम समझौतों को दी मंजूरी, ऑस्ट्रेलियाई पीएम को भारत आने का न्यौता

4511
0
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने आज पहले भारत-ऑस्ट्रेलिया आभासी सम्मेलन की शुरुआत की। प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना संकट के बाद ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री मॉरिसन को परिवार सहित भारत आने का न्यौता भी दिया। उन्होंने दोनों देशों के बीच व्यापार संबंध बढ़ाने पर जोर दिया। इस दौरान दोनों देशों के बीच कुल सात समझौतों पर हस्ताक्षर हुए और दो घोषणाएं हुईं। इसमें हिंद महासागर में समुद्री सहयोग और रणनीतिक सहयोग की घोषणा शामिल है। ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने पीएम मोदी से वीडियो कॉन्फ्रेंस में कहा कि भारत और ऑस्ट्रेलिया के संबंधों को और सशक्त करने के लिए यह अच्छा समय है। अपनी दोस्ती को और मज़बूत बनाने के लिए हमारे पास असीम संभावनाएं हैं। भारत ऑस्ट्रेलिया के साथ अपने सम्बन्धों को व्यापक तौर पर और तेज गति से बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि यह न सिर्फ हमारे दोनों देशों के लिए महत्वपूर्ण है, बल्कि ‘इंडो पेसिफिक’ क्षेत्र और विश्व के लिए भी आवश्यक है। पीएम मोदी ने कहा कि वैश्विक महामारी के इस काल में हमारी व्यापक रणनीतिक साझेदारी की भूमिका और महत्वपूर्ण रहेगी। विश्व को इस महामारी के आर्थिक और सामाजिक दुष्प्रभावों से जल्दी निकलने के लिए एक समन्वित और सहयोगात्मक दृष्टिकोण की आवश्यकता है। हमारी सरकार ने इस संकट को एक अवसर की तरह देखने का निर्णय लिया है। भारत में लगभग सभी क्षेत्रों में व्यापक रिफार्म की प्रक्रिया शुरू की जा चुकी है। बहुत जल्द ही ग्राउंड लेवल पर इसके परिणाम देखने को मिलेंगे। वहीं ऑस्ट्रेलियाई पीएम ने भारत के नेतृत्व की सराहना करते हुए कहा – मैं WHO के कार्यकारी बोर्ड के अध्यक्ष का पद लेने के लिए भारत के नेतृत्व की सराहना करता हूं। ये बोर्ड की अध्यक्षता करने का महत्वपूर्ण समय है। मुझे संदेह नहीं कि भारत का नेतृत्व विशेष रूप से स्वास्थ्य क्षेत्र में विश्व स्तर पर कठिन समस्याओं से निपटने में महत्वपूर्ण होगा। पीएम मोदी ने कहा कि बीते कुछ साल में भारत और ऑस्ट्रेलिया के संबंध काफी मजबूत हुए हैं। इस दौरान ऑस्ट्रेलियाई पीएम ने हल्के-फुल्के अंदाज में यह भी कहा कि जब वह भारत आएंगे तो गुजराती खिचड़ी का आनंद जरूर लेंगे। 

अजय झा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here