कोरोना बंदी में बेसहारों का सहारा बने डॉ. सुनील दुबे, अनिश्चितकालीन तक बंटते रहेंगे भोजन सामग्री

16229
0
SHARE

पटना – इस समय पूरी दुनिया कोरोना संकट से जूझ रही है। भारत में भी 25 मार्च से पूर्णत: लॉकडाउन है। बिहार में भी स्थिति भयावह है। लॉकडॉउन के कारण दिहाड़ी मजदूरों, रिक्शा, ठेला चालकों, गरीब एवं बेसहारा लोगों को दो जून की रोटी के लाले पड़ गए हैं। ऐसी विकट परिस्थिति में विश्व प्रसिद्ध आयुर्वेदाचार्य एवं लंगर टोली स्थित दूबे क्लिनिक के निदेशक डॉ. सुनील कुमार दुबे (गुप्त एवं यौन रोग विशेषज्ञ) अपने समाजिक दायित्वों के प्रति पूरी तरह सजग हैं। उन्होंने गत दिनों कोरोना संकट से निपटने के लिए जहां एक ओर 1,00,000/- रुपया (एक लाख) मुख्यमंत्री राहत कोष में दान दिया है, वहीं दुसरी ओर सोमवार से दुबे क्लिनिक की ओर से प्रतिदिन 125 लोगों को सुखा अनाज मुहैया कराना प्रारंभ किया है। इस संबंध में डॉ. सुनील कुमार दुबे ने बताया कि प्रतिदिन 125 लोगों को सुखा अनाज मुहैया कराया जायेगा। उन्होंने कहा कि उनकी यह मुहिम उस वक्त जारी रहेगी, जब तक कि बिहार से कोरोना पूरी तरह समाप्त नहीं हो जाता। उन्होंने आगे कहा कि उनका प्रयास है कि संकट की इस घड़ी में कोई व्यक्ति भूखा न रहे। फुड पैकेट में चावल, दाल, आटा, सरसों तेल, कई प्रकार के मसाले एवं साबुन शामिल है और यह पैकेट जरुरतमंद, बेसहारा एवं गरीब लोगों के घर तक पहुंचाए जा रहे है। साथ ही दुबे क्लिनिक में भी वितरित किए जा रहे हैं। इस कार्य में सोशल डिस्टेंसिंग का भी पूरा ध्यान रखा जा रहा है। इसके अतिरिक्त निजी स्तर पर तथा इस कार्य में लगे अन्य स्वयंसेवी संस्थाओं, व्यक्तियों आदि को भी आर्थिक मदद दी जा रही है।

बता दें कि कोरोना वायरस से दुनियाभर के करीब 200 देश जंग लड़ रहे हैं। इस महामारी से 8 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हैं और 40 हजार से ज्यादा की मौत हो चुकी है। भारत में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। यहां अभी तक 1600 से ज्यादा लोग संक्रमित हो गए हैं और 47 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं बिहार में कुल कोरोना पीड़ित मरीजों की संख्या 25 हो गई है।

अजय झा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here