Budget 2020 : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के बजट भाषण की प्रमुख बातें

11528
0
SHARE

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण लोकसभा में मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का दूसरा बजट पेश किया। इस बजट में लोगों को क्या मिला आइये जानते हैं –
इनकम टैक्स – इनकम टैक्स के नए स्लैब की घोषणा करते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 5 लाख रुपये तक की आय को टैक्स फ्री कर दिया है। नए टैक्स स्लैब की घोषणा करते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि यह व्यवस्था वैकल्पिक होगी। यानी अगर कोई व्यक्ति पुराने टैक्स स्लैब के मुताबिक टैक्स भरना चाहता है तो वह ऐसा कर सकता है। 5 से 7.5 लाख रुपये की सालाना आय पर 10 फीसदी कर, 7.5 लाख रुपये से 10 लाख रुपये की कमाई पर 15 फीसदी, 10 लाख रुपये से 12.5 लाख रुपये की सालाना आय पर 20 फीसदी, 12.5 से 15 लाख रुपये की सालाना आय पर 25 फीसदी टैक्स जबकि 15 लाख रुपये से ज्यादा की कमाई पर 30 फीसदी टैक्स का भुगतान करना होगा।
रक्षा बजट – रक्षा बजट में करीब छह फीसदी की बढ़ोतरी की गई है। अब यह 3.37 लाख करोड़ हो गया है। हालांकि पिछले साल यह 3.18 लाख करोड़ रुपये था। रक्षा क्षेत्र में दी जानेवाली पेंशन को जोड़कर यह 4.7 लाख करोड़ हो गया है।
किसानों को सौगात – वित्त मंत्री ने किसानों के लिए बड़ी घोषणा की। किसानों की आय दोगुना करना के लक्ष्य 2022 तक। 2020-21 के लिए 15 लाख करोड़ का कृषि ऋण लक्ष्य। प्रधानमंत्री किसान योजना के सभी पात्र लाभार्थी केसीसी स्कीम में शामिल होंगे।11 करोड़ किसान फसल बीमा योजना। खेती, मछली पालन पर जोर, कृषि को प्रतिस्पर्धात्मक बनाया जाएगा उनके लिए उन्नति लाई जाएगी। पानी की कमी से संबंधित कमी देश भर में गंभीर विषय 100 जिले इससे प्रभावित। इनके लिए जरूरी उपाय किए जाएंगे। पीएम कुसुम योजना के तहत 20 लाख किसानों को सोलर पंप दिए जाएंगे। महिलाओं के लिए धन लक्ष्मी योजना शुरू की जाएगी।
किसानों के लिए रेल चलेगी,जल्दी खराब होने वाली वस्तुएं जैसे कि दूछ मांस मछली के चलेगी रेल।
शिक्षा – शिक्षा क्षेत्र के लिए लगभग 99,300 करोड़ रुपये का प्रस्ताव। जल्द होगी नई शिक्षा नीति की घोषणा। मार्च 2021 तक 150 उच्चतर शिक्षण संस्थान शिक्षुता संबंद्ध कोर्स की शुरुआत का प्रस्ताव। राष्ट्रीय पुलिस विश्वविद्यालय और न्यायायिक विज्ञान विश्वविद्यालय का प्रस्ताव।वंचित वर्ग के लिए डिग्री स्तर के ऑनलाइन शिक्षा कार्यक्रम का प्रस्ताव। स्टडी इन इंडिया कार्यक्रम के तहत इंड-सैट का एशिया और अफ्रीका में संचालन होगा।कौशल विकास के लिए 3 हजार करोड़ रुपये का प्रस्ताव।वहीं पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप मॉडल पर मेडिकल कॉलेज बनाए जाएंगे।
रेल – तेजस एक्सप्रेस जैसी निजी ट्रेनों को और नए रूटों पर चलाया जाएगा। राजमार्गों के विकास में तेजी लाई जाएगी। मानव रहित रेल फाटकों को समाप्त किया गया है। 550 स्टेशनों पर वाईफाई को शुरू किया गया है।रेलवे की खाली जमीन पर सौर उर्जा उत्पादन की पहल की जाएगी। 27000 किमी के ट्रेक को इलेक्ट्रिक किया जाएगा। मुंबई से अहमदाबाद के बीच हाई स्पीड ट्रेन के कार्य में तेजी लाइ जाएगी।

स्वास्थ्य – स्वास्थ्य क्षेत्र के लिए 69 हजार करोड़ रुपये का प्रावधान।हमारी सरकार ओडीएफ प्लस के प्रति प्रतिबद्ध।2024 तक सभी जिलों में जन औषधि केंद्र का विस्तार।
स्वच्छ भारत मिशन – स्वच्छ भारत मिशन के लिए 12,300 करोड़ का प्रस्ताव। जन जीवन मिशन के लिए 3.60 लाख करोड़ का अनुमोदन।
100 नए एयरपोर्ट – उड़ान स्कीम को बढ़ावा देने के लिए 100 और विमानपत्तन तैयार किए जाएंगे। 2020-21 में परिवहन अवसरंचना के लिए 1.70 लाख करोड़ रुपये देने का प्रस्ताव।
पर्यटन – 2020-21 के लिए संस्कृति मंत्रालय के लिए 3,150 करोड़ रुपये की व्यवस्था का प्रस्ताव।पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए 2500 करोड़ रुपये की व्यवस्था का प्रस्ताव,भारतीय धरोहर एवं संरक्षण संस्थान की स्थापना होगी।
लद्दाख के लिए 5,958 करोड़ – नवगठित संघ राज्य क्षेत्रों के लिए 2020-21 में 30,757 करोड़ का आवंटन। लद्दाख संघ राज्य क्षेत्र के लिए 5,958 करोड़ की राशि आवंटित।
अनुसूचित जाति और पिछड़े वर्गों के लिए – अनुसूचित जाति और पिछड़े वर्गों के कल्याण के लिए 85 हजार करोड़ का प्रस्ताव। वहीं वरिष्ठ नागरिकों और दिव्यांगों के लिए लगभग 9,500 करोड़ का प्रस्ताव।
कॉर्पोरेट – बजट 2020 में केंद्र सरकार ने एलान किया है कि वो आईपीओ के माध्यम से सबसे बड़ी बीमा कंपनी भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) की अपनी हिस्सेदारी बेचेगी। इसके अलावा सरकार ने आईडीबीआई बैंक में भी मौजूद अपनी हिस्सेदारी को निजी निवेशकों को बेचने की घोषणा की है। आईडीबीआई बैंक में सरकार की हिस्सेदारी 46.46 फीसदी हिस्सेदारी है।
राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी की होगी स्थापना – सरकारी और सार्वजनिक क्षेत्र के बैकों में अराजपत्रित पदों पर भर्ती में महत्वपूर्ण सुधार किए जाएंगे। राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी की स्थापना का प्रस्ताव।
जी-20 – साल 2022 में भारतीय जी-20 अध्यक्षता की मेजबानी करेगा। इसकी तैयारी के लिए 100 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं।
शेयर बाजार – आम बजट से शेयर बाजार खुश नहीं रहा। बजट से शेयर मार्केट नाखुश नजर आया और सेंसेक्स-निफ्टी में भारी गिरावट आई। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 987.96 अंक यानी 2.43 फीसदी की गिरावट के बाद 39,735.53 के स्तर पर बंद हुआ। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 318.30 अंक यानी 2.66 फीसदी की गिरावट के बाद 11,643.80 के स्तर पर बंद हुआ। इससे निवेशकों के चार लाख करोड़ रुपये डूब गए हैं।
आपको बता दें कि ये बजट इतिहास का सबसे लंबा बजट रहा वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 2 घंटे 41 मिनट बोलीं, फिर भी आखिरी दो पन्ने नहीं पढ़ सकीं।

अजय झा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here