जदयू से निकाले गए प्रशांत किशोर और पवन वर्मा

6459
0
SHARE

नीतीश कुमार ने लंबी खींचतान के बाद पार्टी उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर और पूर्व राज्यसभा सांसद पवन वर्मा को पार्टी से निकाल दिया गया है। अनुशासनहीनता की दलील देकर दोनों पर यह कार्रवाई की गई है। जदयू के प्रधान महासचिव और राष्ट्रीय प्रवक्ता केसी त्यागी ने बयान में कहा कि पार्टी का अनुशासन, पार्टी का निर्णय और पार्टी नेतृत्व के प्रति वफादारी ही दल का मूल मंत्र होता है। उन्होंने कहा कि पिछले कई महीनों से दल के अंदर पदाधिकारी रहते हुए प्रशांत किशोर ने कई विवादास्पद बयान दिए जो दल के निर्णय के खिलाफ थे। त्यागी ने कहा कि राष्ट्रीय अध्यक्ष के खिलाफ किशोर ने अपमानजनक शब्दों का इस्तेमाल किया, जो अपने आप में स्वेच्छाचारिता है। किशोर और ज्यादा नहीं गिरें, इसके लिए आवश्यक है कि वह पार्टी से मुक्त हों

नीतीश कुमार और प्रशांत किशोर के बीच चली आ रही खींचतान के बाद से यह फैसला लगभग तय माना जा रहा था। मंगलवार को नीतीश और प्रशांत किशोर के बीच तल्खी ज्यादा बढ़ गई थी। नीतीश ने दावा किया था कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के कहने पर उन्हें पार्टी में शामिल किया गया था। इस पर पलटवार करते हुए पीके ने उन पर झूठ बोलने का आरोप लगाते हुए कहा था कि क्या उनमें इतनी हिम्मत है कि वे अमित शाह की बात न सुनें? दरअसल प्रशांत किशोर के बयान से पार्टी के कई नेता नाराज दिखे। जदयू नेता अजय आलोक ने कहा कि प्रशांत किशोर आम आदमी पार्टी के लिए काम करते हैं, राहुल गांधी से बात करते हैं और ममता दीदी के साथ बैठते हैं। कौन उस पर भरोसा करेगा? हमें खुशी है कि यह ‘कोरोनोवायरस’ हमें छोड़ रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here