क्या लालू की राजद और नीतीश की जदयू फिर आएंगे साथ

6734
0
SHARE

बिहार में इस साल विधानसभा चुनाव होने हैं। यहां झारखंड की तरह भाजपा को हराने के लिए राष्ट्रीय जनता दल राज्य के अपनी पुरानी सहयोगी पार्टी के साथ जाने के लिए तैयार है। इसका इशारा राजद नेता रघुवंश प्रसाद ने दिया है। उनका कहना है कि सभी गैर-भाजपा दलों के लिए यह जरूरी है कि वह साथ आएं।रघुवंश प्रसाद ने कहा, ‘सभी गैर भाजपा पार्टियों के लिए यह जरूरी है, चाहे वह कोई भी हो, नीतीश कुमार या कोई अन्य ए, बी, सी, डी अच्छी या बुरी कि वह भाजपा के खिलाफ साथ आएं। हम किसी को पिक या चूज नहीं करने वाले हैं। हम भाजपा को सत्ता से बेदखल करने के लिए किसी के साथ भी हाथ मिला सकते हैं। राजद इस चुनाव में अपने पुराने चेहरों को एकबार फिर फ्रंट पर लाने की कोशिशों में जुटी है। इसके अलावा वह अपनी सियासी चाल और सियासी चरित्र भी बदलने के लिए शिद्दत से जुटी हुई है। आमतौर पर मुस्लिम और यादवों को अपना वौटबैंक मानने वाली राजद ने जगदानंद सिंह जैसे सवर्ण को प्रदेश अध्यक्ष बनाकर इसके संकेत दिए हैं। रघुवंश की मानें तो राजद और जेडीयू में अंदरखाने बातचीत चल रही है। रघुवंश प्रसाद सिंह यहीं नहीं रुके। उनकी मानें तो तेजस्वी की शर्त है कि नीतीश कुमार पहले बीजेपी का साथ छोड़े तब बातचीत की गुंजाइश हो सकती है, ज़ाहिर है यह बयान बिहार की सियासत को गर्मा सकती है। वहीं रघुवंश प्रसाद सिंह के इस प्रस्ताव को जेडीयू सिरे से ठुकरा रही है। गौरतलब है कि नए साल के मौके पर जदयू ने राजद के 15 सालों पर निशाना साधते हुए ‘हिसाब दो हिसाब लो’ का पोस्टर लगाया था। जिसके जवाब में राजद ने पोस्टर जारी किया है। जिसमें लिखा है- ‘झूठ की टोकरी, घोटालों का धंधा’। राजद प्रदेश कार्यालय के बाहर लगाए गए इस पोस्टर में केंद्र और राज्य सरकार पर निशाना साधा है। हालांकि खास बात यह है कि राजद के जवाबी पोस्टर किसी नेता-कार्यकर्ता का नहीं बल्कि पार्टी का अधिकृत पोस्टर है। इसे नीति आयोग की ओर से प्रमाणित होने का दावा भी किया गया है।

बहरहाल रघुवंश के दावे में कितना दम है ये तो बाद की बात है, लेकिन इतना तो तय है सियासत में ना तो कोई स्थायी दोस्त होता है और ना ही दुश्मन। इस फलसफे को देखें तो रघुवंश के दावे को सिरे से खारिज भी नहीं किया जा सकता। दरअसल झारखण्ड चुनाव के नतीजे आने के बाद कई दलों को सोचने पर मजबूर कर दिया है। अब देखना काफी दिलचस्प होगा की आनेवाले दिनों में क्या नीतीश कुमार फिर से कल्टी मारते हैं या एनडीए के साथ बने रहते हैं

अजय झा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here