JNU में फिर गुंडागर्दी, छात्र संघ अध्यक्ष और महिला शिक्षक सहित कई घायल

11630
0
SHARE

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी कैंपस में रविवार शाम को फीस बढ़ोतरी में प्रदर्शन के दौरान जमकर बवाल हुआ और मारपीट में छात्र संघ अध्यक्ष आइशी घोष का सिर फट गया है। छात्र संघ का दावा है कि यह बवाल लेफ्ट और एबीवीपी के छात्रों के बीच हुआ है। इस हिंसा में दोनों छात्र संगठनों के करीब 25 छात्र घायल हुए हैं। बताया जा रहा है कि विंटर सेमेस्टर रजिस्ट्रेशन के लिए पांच जनवरी आखिरी दिन था, इसलिए छात्र रजिस्ट्रेशन करवाना चाहते थे। मगर लेफ्ट और छात्र संघ ने उनको रोकने की कोशिश की। इस दौरान छात्रों के दोनों गुट आपस में भिड़ गए। इसके बाद पेरियार हॉस्टल के सामने पत्थरबाजी शुरू हो गई। घटना के बाद कैंपस में पुलिस पहुंची है। घटना में कई छात्रों को गंभीर चोटें आई हैं। वहीं कई अन्य छात्रों को पुलिस अपने साथ ले गई है।

जेएनयू में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ की अध्यक्ष आइशी घोष ने कहा, मुझे मास्क पहने गुंडों ने बेरहमी से पीटा है। मेरा खून बह रहा है और मुझे बेहरमी से पीटा गया है। उन पर नकाब पहने लोगों ने हमला किया है। कैंपस में मारपीट का एक वीडियो भी सामने आया, जिसमें नकाब पहने लोग छात्र संघ अध्यक्ष और छात्रों पर हमला करते नजर आ रहे हैं। इसी दौरान प्रदर्शनकारी यह कहते सुने जा सकते हैं कि कौन हो तुम लोग? किसे डराना चाह रहे हो?.. एबीवीपी वापस जाओ। जेएनयू की शिक्षक सुचित्रा सेन को भी गंभीर चोटें आई हैं। वहीं मामले में जेएनयू एबीवीपी प्रेसिडेंट ने कहा कि एबीवीपी से जुड़े 11 छात्र भी लापता है. हमारी मांग है कि हमें सुरक्षा दी जाए। कैंपस में डर का माहौल है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने तुरंत हिंसा रोकने की अपील की है। केजरीवाल ने कहा कि मैं जेएनयू में हिंसा से काफी हैरान हूं। छात्रों पर बुरी तरह से हमला किया गया है। पुलिस को तुरंत हिंसा रोककर शांति कायम रखनी चाहिए। उन्होंने कहा अगर कैंपस के भीतर भी छात्र सुरक्षित नहीं हैं, तो देश कैसे तरक्की करेगा। दिल्ली सरकार ने कहा है कि जेएनयू कैंपस की स्थिति को देखते हुए सात एंबुलेंस भेजी गई हैं जबकि 10 एंबुलेंस स्टैंडबाय पर हैं। कैंपस में भारी सुरक्षा बल भी तैनात किया गया है। वहीं मानव संसाधन मंत्रालय ने पूरे मामले पर जेएनयू रजिस्ट्रार से रिपोर्ट मांगी है। मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि उन्होंने जेएनयू के वीसी के अलावा पुलिस अधिकारियों से भी बात की है ताकि शांति सुनिश्चित की जा सके। गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली के पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक से बात की। उन्होंने कहा कि इस हिंसा की वरिष्ठ अधिकारियों से जांच कराई जाए और जल्द रिपोर्ट पेश कि जाए।

अजय झा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here