मकर संक्रांति के बाद तेजस्वी करेंगे पोल खोल यात्रा

6579
0
SHARE

देश भर में NRC, CAA और NPR को लेकर कोहराम मचा हुआ है और हर राजनीतिक दल इस मुद्दे के जरिए अपना वोट बैंक को साधने में लगा है तो भला लालू के लाल इसमें पीछे कहां रहने वाले हैं। गौरतलब है कि बिहार विधानसभा का चुनाव इसी वर्ष होना है, इसीलिए बिहार में नेताओं की यात्रा का दौर भी शुरू हो चुका है। बिहार के सीएम नीतीश कुमार पूरे प्रदेश की यात्रा पर हैं तो वहीं अब नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव भी सीएम नीतीश कुमार की जल-जीवन-हरियाली यात्रा का जवाब यात्रा से ही देंगे। राजद भी अपनी इस यात्रा के सहारे बिखरे हुए वोटबैंक को समेटने में जुट गई है। मकर संक्रांति के बाद तेजस्वी सीमांचल के इलाकों से अपनी इस यात्रा की शुरुआत करेंगे जिसका मकसद है जनता के बीच एनडीए सरकार को एक्सपोज करना। तेजस्वी इस यात्रा की शुरुआत सीमांचल के उस इलाके से करेंगे जहां मुसलमानों की सबसे बड़ी आबादी है। तेजस्वी इस यात्रा के जरिए नीतीश कुमार के ड्रीम प्रोजेक्ट को भी साधने की तैयारी में हैं। जहाँ राजद को इस यात्रा से बहुत उम्मीदें हैं, वहीं तेजस्वी के लिए यह यात्रा उनकी प्रतिष्ठा का सवाल बन गई है वो भी ऐसे में जब खुद लालू ने इस यात्रा की स्क्रिप्ट जेल से लिखी है। लालू इस मुद्दे को किसी भी कीमत पर कैश करना चाहते हैं, साथ में जो मुसलमान उनकी पार्टी से अलग हो गए थे या फिर नीतीश कुमार के साथ चले गए थे उन्हें भी फिर से पार्टी से जोड़ने और MY समीकरण को मजबूत करने की कोशिश भी करेंगे। बता दें कि तेजस्वी की यह कोई पहली यात्रा नहीं है, लेकिन चुनावी वर्ष में इस यात्रा का महत्व बाकियों से कहीं ज्यादा है।

इससे पहले तेजस्वी की साईकिल यात्रा फ्लॉप हो गई थी जिसे लेकर विरोधी आज भी उन पर तंज कसते हैं। अब देखना दिलचस्प होगा कि तेजस्वी अपनी इस यात्रा से पार्टी को किस प्रकार का संजीवनी बूटी प्रदान करते है।

अजय झा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here