रीगा चीनी मिल के मुख्य द्वार पर किसानों ने गन्ना जलाकर विरोध प्रकट किया

5722
0
SHARE

सीतामढ़ी – संयुक्त किसान मोर्चा (रीगा, सीतामढ़ी) के आह्वान पर शहीद दिवस के मौके पर भीषण ठंढ के बावजूद बड़ी संख्या में किसान पहुंचकर आक्रोश जताया। रीगा चीनी मिल क्षेत्र के किसानो ने बढ़ते उत्पादन लागत के बावजूद केंद्र एवं राज्य सरकार द्वारा गन्ना मूल्य में कोई बढ़ोतरी नहीं किये जाने से नाराज थे। बाढ़ से बर्बाद गन्ना फसलक्षति की भरपाई नहीं किये जाने एवं एक वर्ष के बाद भी रीगा चीनी मिल की जिम्मे गन्ना मूल्य के बकाये 100 करोड़ रू का भुगतान नहीं होने से आक्रोशित थे। साजिश के तहत लिमिट वाले किसानो का खाता एनपीए कराने तथा बार – बार के आग्रह पर भी सरकार तथा प्रबंधन की उपेक्षा से आक्रोशित किसानो ने मिल का घेराव प्रदर्शन किया। किसानों ने मिल गेट को जाम कर पूरी आवाजाही को 5 घंटे तक बाधित किया। सरकार तथा मिल प्रबंधन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। किसान आंदोलन के शहीद सुरेंद्र तथा रफीक अमर रहे का नारा बुलंद किया। किसानों के संकट पर संघर्ष तेज करने तथा 8 जनवरी को ‘ग्रामीण भारत बंद’ आंदोलन को सफल बनाने के संकल्प के साथ ही मिल गेट पर अपने कृषि उत्पादन गन्ना का दहन कर रोष व्यक्त किया।

सरकार से 600 रू क्विंटल गन्ना मूल्य तय करने अथवा गन्ना मूल्य पर 300 रू क्विंटल अनुदान देने की मांग की। साथ ही गन्ना मूल्य के बकाये का ब्याज सहित भुगतान तथा किसानो की लिमिट की राशि का भुगतान होने तक पूर्व की भांति डिस्टिलियरी से प्राप्त राशि का भी 85 प्रतिशत किसानों के खाते में भेजने की मांग की। चीनी मिल के पास उपलब्ध चीनी की एकमुश्त बिक्री कराकर भुगतान करने एवं मनुषमारा नदी को प्रदूषण से बचाने की मांग की गई। किसानों ने कहा कि मिल चलनी चाहिए लेकिन किसानों के लाश पर नहीं। रीगा चीनी मिल से जुड़े किसानो का उत्पीड़न हद को पार क्र गया है। मिल गेट पर ही किसान मोर्चा के रिगा अध्यक्ष पारसनाथ सिंह की अध्य्क्षता में आयोजित सभा को जिले के विभिन्न किसान संगठनों, किसान सभा, जय किसान आंदोलन के नेता तथा शहीद के पुत्र संतोष कुमार, मोर्चा नेता डॉ आनंद किशोर,जिला अध्यक्ष रमतपन सिंह, महासचिव आफ़ताब अंजुम, किसान सभा के केदार शर्मा,जय किसान आंदोलन के मुकेश कुमार मिश्र,मोर्चा नेता चंदेश्वर नारायण सिंह,अतुल बिहारी मिश्र,जीवनाथ ,दिनेश कुमार सिंह, रविंद्र कुमार सिंह,जलंधर यदुबंशी, विजय कुमार सिंह, प्राकेश भूषण, त्रिपुरारी कुमार सुमन, ओमप्रकाश कुशवाहा, संजीव कुमार, नरेश झा कौशल किशोर सिंह,सर्वजीत यादव चंदेश्वर चौधरी ,हंसराज दास, रामविनय कुशवाहा,गुलाब बाबू सिंह सहित अन्य किसान नेताओ ने किसान आंदोलन को तेज करने के संकल्प के साथ अपनी समस्याओं पर जनप्रतिनिधियों पर भी दबाब बनाने का किसानो से अपील किया। सभा के बाद मिल बाजार में किसानों का जुलूस शहीद के पुत्र के साथ शहीद स्मारक पहुंचा। शहीद सुरेंद्र और रफीक अमर रहे के नारों के साथ माल्यार्पण तहा पुष्पांजलि अर्पित कर शहीद को श्रद्धांजलि दिया।

अजय झा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here