20 सितंबर को मिलेगा भारत को पहला राफेल, पाकिस्तानी सेना में मची खलबली

11617
0
SHARE

अब भारत के दुश्मनों की बेचैनी और बढ़ने वाली है। क्योंकि जल्द ही भारत की सैन्य शक्ति में बड़ा इजाफा होने वाला है। भारत-पाक तनाव के बीच फ्रांस की कंपनी दसॉल्ट एविएशन द्वारा निर्मित राफेल का पहला विमान 20 सितंबर को भारत को मिलने वाला है। पहले लड़ाकू राफेल विमान को रिसीव करने केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और भारतीय वायुसेना के चीफ बीएस धनोआ फ्रांस जाएंगे। मिली जानकारी के अनुसार, 20 सितंबर को राजनाथ सिंह और बीएस धनोआ की मौजूदगी में राफेल जेट विमान भारतीय वायुसेना को सौंपा दिया जाएगा। भारतीय वायुसेना के मुताबिक, फ्रांस के अधिकारी वहां रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, वायुसेना चीफ बीएस धनोआ और कई रक्षा अधिकारियों की मौजूदगी में राफेल विमान भारत को देंगे। दरअसल, सितंबर 2016 में भारत और फ्रांस के बीच 36 राफेल विमान खरीदने को लेकर डील हुई थी। इन विमानों की कीमत 7.87 बिलियन यूरो तय की गई थी। बता दें कि राफेल विमान आने से पहले ही भारतीय वायुसेना ने 24 पायलटों को राफेल की ट्रेनिंग देने की तैयारी कर ली है। ताकि जब राफेल भारत में आ जाए तो भारतीय पायलट इन विमानों को उड़ाने के लिए पूरी तरह से ट्रेंड हों। ये सभी पायलट तीन अलग-अलग बैच में अपनी ट्रेनिंग खत्म कर लेंगे। अगले साल मई तक सभी राफेल विमान भारत में आ जाएंगे. तब तक और पायलटों की ट्रेनिंग जारी रहेगी। बताया जा रहा है कि भारतीय वायुसेना राफेल विमान की एक-एक टुकड़ी को हरियाणा के अंबाला और पश्चिम बंगाल के हाशिमारा में अपने एयरबेस पर बनाने जा रही है। वहीँ भारत में जल्द ही राफेल विमानों के आने की ख़बर से पाकिस्तानी सेना में अभी से खलबली मची है।

अजय झा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here