एसकेएमसीएच में हुई बच्चों की मौत पर सरकार को घेरेगी हम

6898
0
SHARE

बिहार में एक्यूट इन्सेफेलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) यानी चमकी बुखार से अब तक 163 बच्चों की मौत हो चुकी है। मुजफ्फरपुर जिले में ही अब तक 580 बच्चे इस बीमारी से प्रभावित हैं। चमकी बुखार यानि एईएस से हो रही बच्चों की मौत के बाद अब नरकंकाल का मिलना सरकार के लिए मुश्किलें पैदा कर रहा है। शहर के एसकेएमसीएच के पीछे नरकंकाल मिलने के खुलासे के बाद हम के प्रदेश उपाध्यक्ष रंजीत चंद्रवंशी ने कहा इस खबर ने सरकार और सिस्टम की लापरवाही को उजागर किया है। उन्होंने कहा नीतीश कुमार की संवेदना मर चुकी है और उनकी सुशाशन की पोल खुल चुकी है। 26 जून (बुधवार) को हम पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी और रंजीत चंद्रवंशी के नेतृत्व में विशाल धरना देगी। आपको बता दें कि एसकेएमसीएच में नीतीश कुमार के दौरे के दिन ही रंजीत चंद्रवंशी ने भी वहां पहुंचकर हालात का जायजा लिया। वहीं बिहार में विपक्षी दल यानि आरजेडी इस पूरे मामले को सदन में उठाने की तैयारी में है। बहरहाल एसकेएमसीएचके अधीक्षक डॉ एसके शाही ने इस मामले की जांच के लिए एक टीम गठित की है। प्राचार्य और अधीक्षक की टीम संयुक्त रूप से इस मामले की जांच करेगी। उन्होंने कहा कि यह बिल्कुल अमानवीय है। इसके साथ ही यह पुलिस और अस्पताल कर्मियों की लापरवाही भी है। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार शव की अंत्येष्टि के लिए 2000 रुपए देती है। उसके बाद भी इस तरह के मामले सामने आ रहे हैं। अस्पताल प्रशासन ने मामले को गंभीरता से लिया है।

अजय झा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here