दुनिया का सबसे महंगा चुनाव रहा भारत के 2019 का लोकसभा चुनाव

5763
0
SHARE

2019 का लोकसभा चुनाव भारत के इतिहास में सबसे महंगा चुनाव रहा। सात चरणों में हुए 75 दिनों के चुनाव प्रचार में उम्मीदवारों ने जमकर पैसे खर्च किए। जबकि लोकसभा चुनाव में चुनाव आयोग एक उम्मीदवार को 70 लाख रुपये चुनाव प्रचार में खर्च करने की अनुमति देता है। ऐसे में अगर इस बार मैदान में उतरे सभी प्रत्याशियों का आंकड़ा निकाल लें तब भी यह आंकड़ा 12 हजार करोड़ से आगे नहीं जाता। लेकिन इन चुनाव में उम्मीदवारों ने अपनी वैध सीमा से करीब पांच गुना पैसा ज्यादा खर्च किया। सेंटर फॉर मीडिया स्टडीज ने लोकसभा चुनावों के खर्चों पर एक रिसर्च प्रकाशित की है। इसके अनुसार लोकसभा चुनाव 2019 में कुल 60 हजार करोड़ रुपये पानी की तरह बहा दिए गए। इस लिहाज से देखें तो औसतन हर वोट के पीछे 700 रुपये खर्च किए गए। सीएमएस की रिसर्च में इस बात का भी खुलासा हुआ है कि 60 हजार करोड़ रुपये का खर्च किन-किन मदों में हुआ है। रिपोर्ट दावा करती है कि आम चुनाव 2019 में वोटरों को 12 से 15 हजार करोड़ रुपये बांट दिए गए, ये पैसे कैश और कई बार खिलाने-पिलाने पर खर्च हुए। जबकि उम्मीदवारों ने अपने विज्ञापनों पर करीब 20 से 25 हजार करोड़ रुपये खर्च कर दिए। इसके अलावा अपने आंकड़े खरीदने आदि पर प्रत्याशियों ने करीब 5 से 6 हजार करोड़ रुपये लगा दिए। सीएमएस का दावा है कि लोकसभा चुनाव 2019 भारत का ही नहीं पूरी दुनिया का सबसे महंगा चुनाव था। आज तक पूरी दुनिया में इतने ज्यादा पैसे खर्च कर किसी देश के उम्मीदवारों ने चुनाव नहीं लड़ा। यह पहली बार था जब किसी देश के चुनाव में 60 हजार करोड़ रुपये खर्च कर दिए गए।

अजय झा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here