बाढ़ की लेडी सिंघम ASP लिपि सिंह के ट्रांसफर से लोग नाराज

13482
0
SHARE

बाढ़ की जांबाज महिला एएसपी लिपि सिंह को चुनाव आयोग के आदेश पर ट्रांसफर कर दिया गया है। उनकी जगह बिहार पुलिस सेवा के एक अधिकारी को बतौर डीएसपी बाढ़ की कमान सौंपी गई है। जहां लिपि सिंह के ट्रांसफर से स्थानीय लोग मायूस हो गए हैं। वहीं सरकार के इस फैसले पर लोगों ने खुलकर नाराजगी भी जताई है। बाढ़ के लोग मानते हैं कि लेडी सिंघम यानि कि लिपि सिंह ने बाढ़ अनुमंडल में अपराधी- माफिया गठजोड़ की तोड़ कमर तोड़ दी थी। स्थानीय लोग चुनाव आयोग के फैसले पर अफसोस जताते हुए कहते हैं कि लिपि सिंह राजनीतिक साजिश की शिकार हो गई। आपको बता दें कि लिपि सिंह राज्यसभा सदस्य और जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह की पुत्री हैं। लिपि के खिलाफ मुंगेर की कांग्रेस उम्मीदवार नीलम देवी और उनके पति मोकामा के बाहुबली विधायक अनंत सिंह की तरफ से चुनाव आयोग में शिकायत दर्ज करायी गई थी। आरोप था कि वे अनंत सिंह के आदमी और उनके समर्थकों को परेशान कर रहे हैं। दरअसल बाढ़ की एएसपी के रूप में आईपीएस अधिकारी लिपि सिंह ने अपराधियों की कमर तोड़ दी थी। कहा जाता है कि लिपि सिंह के नाम मात्र से ही बड़े-बड़े अपराधी भय खाने लगे थे। महज 6 महीने के कार्यकाल में लिपि सिंह ने 100 से ज्यादा पेशेवर अपराधियों को जेल की हवा खिलाई। उन्होंने अपनी डियूटी के दौरान अपराधियों से 150 से अधिक हथियार जब्त किये। जबकि अन्य आरोपो में 600 से अधिक अपराधियों को गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे भेज दिया। हालांकि चुनाव आयोग के निर्देश पर गृह विभाग द्वारा सहायक पुलिस अधीक्षक लिपि सिंह को हटाने से क्षेत्र के लोग हैरान हैं। वहीं स्थानीय लोग यह सवाल कर रहे हैं कि क्या नेता की बेटी होना कोई गुनाह है ?

अजय झा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here