तीसरे चरण की वोटिंग में बीजेपी और कांग्रेस के अध्यक्ष सहित कई दिग्गजों की किस्मत दांव पर

15828
0
SHARE

लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण के लिए आज मतदान हो रहा है। देश की 117 सीटों पर वोटर अपना मत डाल रहे हैं, आम आदमी के साथ-साथ नेता भी अपने मत का इस्तेमाल करने पहुंच रहे हैं। इस चरण में गुजरात की सभी 26 और केरल की सभी 20 सीटों के साथ असम की चार, बिहार की पांच, उत्तर प्रदेश की 10, छत्तीसगढ़ की सात, कर्नाटक तथा महाराष्ट्र में 14-14, ओडिशा की छह,पश्चिम बंगाल की पांच, गोवा की दो और दादर नगर हवेली, दमन दीव तथा त्रिपुरा की एक-एक सीट शामिल हैं। गुजरात के गांधीनगर से भाजपा अध्यक्ष शाह मैदान में हैं। वहीं केरल में वायनाड से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी लड़ रहे हैं और इस सीट पर भी सबकी निगाहें हैं।

गांधीनगर- गुजरात की राजधानी गांधीनगर की लोकसभा सीट बीजेपी की पारंपरिक सीट मानी जाती है। पिछले कई दशकों से यहां वरिष्ठ भाजपा नेता लाल कृष्ण आडवाणी ने एकक्षत्र राज किया है। 1991 में अटल बिहारी वाजपेयी केबाद 1998 से 2014 तक के चुनावों में आडवाणी यहां से जीतते आ रहे हैं।बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह पहली बार लोकसभा का चुनाव लड़ रहे हैं। यहां कांग्रेस की तरफ से सीजे चावड़ा मैदान में हैं।
वायनाड- कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अमेठी के अलावा इस सीट से भी चुनावी मैदान में उतरे हैं। यहां राहुल गांधी के सामने सीपीआई के नेता पीपी सुनीर खड़े हैं। इस सीट पर 2014 में राज्य में कांग्रेस पार्टी के दिग्गज नेता एमआई शानावास जीते थे। 2018 में उनकी मृत्यु के बाद से ही ये सीट खाली हो गई थी।
मधेपुरा-बिहार के यादव लैंड कहे जाने वाले मधेपुरा सीट से दो दिग्जगों की प्रतिष्ठा दांव पर हैं, क्योंकि यहां एक तरफ पप्पू यादव हैं तो उनके सामने देश के दिग्‍गज राजनीतिज्ञों में शुमार और जेडीयू से बगावत कर लालू खेमे में जा चुके आरजेडी के उम्मीदवार शरद यादव हैं।
पुरी- कभी कांग्रेस का गढ़ रहे ओडिशा के पुरी पर कभी कांग्रेस की बादशाहत थी लेकिन पिछले दो दशक से यहां बीजू जनता दल राज कर रही है। बीजू जनता दल के तख्त को हिलाने के लिए इस बार भाजपा ने अपने प्रवक्ता संबित पात्रा को मैदान में उतारा है। यहां पात्रा के खिलाफ बीजू जनता दल की ओर से पिनाकी मिश्रा तो कांग्रेस की तरफ से सत्य प्रकाश नायक और मैदान में हैं।
तिरुवनंतपुरम- यूपीए सरकार में केंद्रीय मंत्री रहे शशि थरूर तिरुवनंतपुरम सीट से लगातार दो बार से सांसद बनकर लोकसभा पहुंच रहे हैं। इस बार वो भी यहां से मैदान में हैं। उन्हें रोकने के लिए भारतीय जनता पार्टी ने मिजोरम के पूर्व राज्यपाल कुम्मानम राजशेखरन को उतारा है। शशि थरूर कांग्रेस के उन प्रमुख चेहरों में से हैं जो केरल से चुनाव जीतकर आते हैं।
मैनपुरी- मुलायम सिंह- समाजवादी पार्टी के मजबूत किले में से एक मैनपुरी लोकसभा सीट पर पांचवीं बार सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव चुनावी अखाड़े में ताल ठोक रहे हैं। 2014 के मोदी लहर में भी सपा इस सीट को बचाने में कामयाब रही थी। मुलायम सिंह यादव ऐलान कर चुके हैं कि वे आखिरी चुनाव लड़ रहे हैं, ऐसे में एक बार फिर बीजेपी के लिए इस सीट पर कड़ा इम्तिहान है।
रामपुर- इस बार बीजेपी के टिकट पर चुनाव लड़ने पहुंचीं जया प्रदा यहां से दो बार लोकसभा का चुनाव जीत चुकी हैं। लेकिन तब अंतर ये था मुस्लिम बहुल इस इलाके में जया प्रदा को मुलायम सिंह यादव की वजह से एकमुश्त अल्पसंख्यक वोटों का फायदा हो जाता था। लेकिन इस बार की कहानी पिछली बार से उलट है। रामपुर विधानसभा सीट से 9 बार से लगातार विधायकी का चुनाव जीत रहे आजम खान जया प्रदा के सामने हैं। ऐसे में जया प्रदा के लिए इस बार की चुनावी लड़ाई पहले जैसी आसान नहीं रहने वाली।
बता दें कि ये चुनाव इस लिहाज से भी काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है की जहां अमित शाह का ये पहला चुनाव है वही मुलायम सिंह का ये अंतिम चुनाव है।

अजय झा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here