पाक ने हाफिज सईद पर कसा शिकंजा, जमात-उद-दावा और फलाह-ए-इंसानियत को किया बैन

16488
0
SHARE

पाकिस्तान की इमरान सरकार ने आतंकी निरोध एक्ट-1997 के तहत मुंबई हमले के आरोपी आतंकी हाफिज सईद के संगठनों जमात उद दावा और फलाह-ए-इंसानियत पर प्रतिबंध लगा दिया। पाक सरकार ने मंगलवार को जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर के भाई और बेटे समेत 44 आतंकियों को हिरासत में लिया। मसूद अजहर का भाई अब्दुल असगर पुलवामा हमले में आरोपी है।

14 फरवरी के पुलवामा आतंकी हमले के बाद 21 फरवरी को पाकिस्तान सरकार ने घोषणा की थी कि उग्रवादी समूहों पर लगाम लगाया जायेगा। अब पाकिस्तान वैश्विक दबाव के बीच JuD और FIF पर प्रतिबंध लगा दिया है। पुलवामा हमले में 40 CRPF जवान शहीद हो गए थे। आपको बता दें कि हाफिज सईद साल 2001 में भारतीय संसद पर हुए हमले, जुलाई 2006 में मुंबई लोकल में हुए सिलसिलेवार बम धमाके और 2008 में हुए 26/11 के आतंकी हमले का मास्टरमाइंड है। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) के अनुसार हाफिज सईद पाकिस्तान स्थित लाहौर में रहता है। हाफिज सईद को संयुक्त राष्ट्र ने आतंकी घोषित करते हुए उस पर 10 मिलियन डॉलर के इनाम का ऐलान किया था। 2012 में लश्कर पर बैन लगाया गया था। उसके बाद हाफिज ने अपनी आतंकी गतिविधि चलाने के लिए जमात उद दावा और फलाह ए इन्सानियत फाउंडेशन बनाया और इनकी आड़ में अपने नापाक मंसूबों को अंजाम देता रहा। इस कार्रवाई पर भारत ने कहा कि आतंकियों को आतंक निरोधी कानून के तहत गिरफ्तार नहीं किया गया, उन्हें केवल हिरासत में लिया गया, यह आतंकियों की हिफाजत के लिए पाक का नया छलावा है। न्यूज एजेंसी के मुताबिक, भारतीय सुरक्षा अफसर ने बताया कि संभव है कि भारत की बालाकोट में आतंकियों पर कार्रवाई के डर से इन आतंकियों को हिरासत में लिया गया हो। यह आतंकियों को सुरक्षा देने की कोशिश भी हो सकती है।

अजय झा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here